माँ बेटियों की एक साथ चुदाई 3

0
Loading...
प्रेषक : गबरू
माँ बेटियों की एक साथ चुदाई 2 से आगे की कहानी  . . .
अब तक मैंने कपड़े बदल लिए और बाहर निकल गया, कुछ समय बाद रागिनी अपने साथ रीना को ले कर बाहर आई। बिन्दा ने एक नजर रीना को देखा, और फ़िर झट से कहा, “जाओ, अब नहा-धो
कर साफ़-सुथरी हो जाओ, मंदिर चलना है।”रीना भी चुपचाप चल दी। मैंने देखा रूबी चुल्हे के पास है सो मैंने कहा एक कप और चाय पिला दो रूबी डार्लिंग , तुम्हार अहसान होगा, बहुत थक गया हूँ।” रूबी ने मुँह बिचकाते हुए कहा, “हूँह, साँढ़ भी कहीं थकता है….।”

मैंने भी तड़ से जड़ दिया, “बछिया को चोदने में थकता है डार्लिंग …और तुम्हारी दीदी तो लाजवाब थी… अंत-अंत तक मेरे धक्के पर कराह रही थी, ऐसी कसी हुई चूत की मालकिन है।”

इस बात को सुन कर बिन्दा फ़िक्रमंद हो गई। मेरे से पूछी, “तब अब आगे कैसे होगा, शहर में तो बेचारी अकेली रह जाएगी, घुट-घुट कर रोएगी…”।

मैंने समझाया, “अरे नहीं बिन्दा, ऐसी बात नहीं है, अभी दो-चार बार और कर दुँगा तो सही हो जाएगी, जब पुरा मुँह खुल जाएगा। असल में न उसको आप सब के प्रोत्साहन की जरुरत है। आप उसको सब करने बोल रहे हैं पर खुल कर नहीं, जब सब आपस में बेशर्मी से बात-चीत करेंगे तो उसका दिमाग भी इस सब के लिए तैयार होने लगेगा और फ़िर बदन भी तैयार हो जाएगा। ऐसे मैं तो उसको 2-3 बार में ढ़ीला कर हीं दुँगा। आप तो जान चुकी हैं कि मेरा लंड आम लोग से मोटा भी है….सो जब मेरे से बिना दर्द के चुदा लेगी तो बाजार में कुछ खास परेशानी नहीं होगी। अभी तो जितनी टाईट है, अगर मैं हीं पैसा वसूल चुदाई कर दूँ जैसा कि कस्टमर आमतौर पर रंडियों की करते हैं तो बेचारी इतना डर जाएगी कि चुदाने के नाम पर उसकी नानी मरेगी।”

रूबी चाय ले आई थी और वहीं खड़े हो कर सब सुन रही थी। मैं कह रहा था, “उसको बहुत प्यार से आराम-आराम से अपने मोटे लन्ड के चोदा हूँ आज”।

रूबी अब बोली, “आपको अपनी मुटाई पर बहुत नाज है न, खुद से अपनी बड़ाई करते रहते हैं।”

उसको शायद मैं कुछ खास पसन्द नहीं था।”

मैंने उसको जवाब दिया, “ऐसी कोई बात नहीं है, मेरे से ज्यादा सौलिड लन्ड वाले हैं दुनिया में…पर मेरा कोई खराब नहीं है बल्कि ज्यादातर मर्दों से बहुत-बहुत बेहतर है….जब तुम बाजार में उतरोगी और कुछ अनुभव मिलेगा तब समझोगी।”

अब मैं दिल में सोंच रहा था कि जब इस कुतिया की सील तोड़ने की नौबत आएगी उस दिन वियाग्रा खा कर साली को फ़ाड़ दुँगा, वैसे भी मैं इसको खास पसन्द हूँ नहीं तो बेहतर होगा कि साली का बलात्कार हीं कर दूँ। इस घर में तो अब मेरे सात खून माफ़ होंगे।

बिन्दा सब सुन कर सर हिलाई, “ठीक है, अब तो यह आपके और रागिनी के हीं भरोसे है।”

रीना अब तैयार हो कर आ गयी  तो बिन्दा, रीना और रूबी मंदिर चली गई। घर पर मेरे साथ रागिनी और रीता थीं। मैं भी अब नहाने धोने के सोच रहा था। जब मैं टट्टी के लिए गया तो रीता आंगन में नल पर नहाने लगी। मैं भी वहीं ब्रश करने लगा। सब दिन की तरह रीता आज भी सिर्फ़ एक पैन्ट में नहा रही थी। उसकी छॊती-छोटी चुचियाँ अभी तरीके से चुची बनी भी नहीं थी…एक उभार था जिसका आधा हिस्सा गुलाबी था, बड़े से एक रुपया के सिक्के जितना और उस पर एक बड़े किशमिश की साईज की निप्पल थी। आज आराम से गौर से उसकी छाती का मुआयना कर रहा था तो लगा कि कल मैंने जिसे चुचक कहा था…वह सही में अब चूची लग रहा है। यह बात अलग है कि अभी उसमें और ऊभार आना बाकी था। मैंने एक तौवेल लपेट रखा था अपनी कमर में।

रीना को चोदने के बाद से मैं ऐसे हीं टौवेल में घुम रहा था। नहाते हुए  रीता बोली, “अंकल, क्या दीदी को बहुत तकलीफ़ हुई थी?”

मैंने उससे ऐसे सवाल की अभी उम्मीद नहीं की थी सो चौंक कर कहा, “किस बात से?”

अब रीता फ़िर से पूछी, “वही जब आप दीदी को कमरे में ले जाकर उसकी चुदाई कर उसको औरत बनाए तब?”

मै बोला, “अब थोड़ा बहुत तो हर लड़की को पहली बार में परेशानी होती है कुछ खास नहीं। पर इसमें मजा इतना मिलता है लड़की को कि वो इसक काम को बार-बार करते है मर्दों के साथ। अगर सेक्स में मजा नहीं आता तो क्या इतना परिवार बनता, फ़िर बच्चे कैसे होते और दुनिया कैसे चलती…सोचों।”

रीता कुछ सोंची, सब समझी फ़िर बोली, “तब दीदी इस तरह से कराह-कराह कर रो क्यों रही थी?”

मैं अब उसको समझाया, “वो रो नहीं रही थी बेटा…ऐसी आवाज जब लड़की को मजा मिलता है तब भी मुँह से निकलता है…आह आह आह। असल में तुम कभी ब्लू-फ़िल्म तो देखी नहीं होगी सो तुमको कुछ पता नहीं है। वैसे मैंने कमरा बन्द नहीं किया हुआ था, तुम चाहती तो आ जाती देखने।”

रीता अब खड़े हो कर बदन तौलिए से पोछते हुए बोली, “जैसे माँ तो मुझे जाने हीं देती…देखते नहीं हैं जब आप लोग बात करते हैं तो कैसे मुझे किसी बहाने वहाँ से हटाने की कोशिश करती है। अभी इतना बात कर पा रही हूँ कि वो अभी 2-3 घन्टे नहीं आएगी, मंदिर से बाजार भी जाएगी”। कल मैं उसको नहाते समय जब देखा तो चूची और खाँख का बाल हीं देख पाया था और बूर पर कैसे बाल होंगे सोचता रह गया था। आज मुझे भी मौका मिल रहा था कि उसकी बूर पर निकले ताजे बालों को देखूँ।

मैंने अब उसको एक औफ़र दिया, “रीता तुम मेरा एक बात मानो तो मैं तुमको अभी सब दिखा सकता हूँ, रागिनी है न…उसको अभी तुम्हारे सामने चोद दुँगा, फ़िर तुम सब देख समझ लेना कि कैसे तुम्हारी दीदी को मैंने औरत बनाया था।”

रीता की आँख में अनोखी चमक दिखी, “क्या बात है बोलिए जरुर मानुँगी।”

मैंने मुस्कुरा कर कहा, अगर तुम मेरे सामने अपनी पैन्ट भी खोल कर अपना बदन पोंछो…तो। असल में मैं तुम्हारी बूर पर निकले बालों को देखना चाहता हूँ, कभी तुम्हारी उम्र की लड़की की बूर नहीं देखी है न आज तक।”

मैंने सब साफ़ कह दिया। वो राजी हो गई और अपना पैन्ट नीचे ससार दी, फ़िर झुक कर उसको अपने पैरों से निकाल दिया।

बिन्दा की सबसे छोटी बेटी 13 साल की रीता की नंगी बूर मेरे सामने चमक उठी। वो मेरे सामने खड़ी थी। 5 फ़ीट लम्बी दुबली पतली, गोरी चिट्टी, गोल चेहरा, काली आँखें…चेहरे से वो सुन्दर थी, पर उसका अधखिला बदन…आह अनोखा था। एक दम साफ़ गोरा बदन, छाती पर ऊभार ले रही गोलाईयाँ, जो अभी नींबू से कुछ हीं बड़ी हुई होगी जिसमें से ज्यादा तर हिस्सा भूरा-गुलाबी था जिसके बीच में एक किशमिश के दाने बराबर निप्पल, जिसको चाटा जा सकता था पर चूसने में मेहनत करनी पड़ती। अंदर की तरफ़ हल्के से दबी हुई पेट जिसके बीच में एक गोल गहरी नाभी…और मेरी नजर अप उसकी और नीचे फ़िसली। दो पतले-पतली गोरी कसी हुई टाँगे और उसकी जाँघों की मिलन-स्थली का क्या कहना, मेरी नजर वहाँ जाकर अटक गई। थोड़ी फ़ुली हुई थी वह जगह, जैसे एक डबल रोटी हो जिसको किसी पेन्सील से सीधा चीरा लगा दिया गया हो। चाकू नहीं कह रहा क्योंकि रीता की डबल रोटी इतनी टाईट थी कि तब शायद चीरा भी ठीक से न दिखता। इसीलिए पेन्सील कह रहा हूँ क्योंकि उसकी उस फ़ुली हुई डबल रोटी में चीरा दिख रहा था, लम्बा सा, करीब 4 ईंच का तो मुझे सामने खड़े हो कर दिख रहा था। मेरी पारखी नजरों ने भाँप लिया कि इसमे करीब दो ईंच का छेद होगा, वो दरवाज जो हर मर्द को स्वर्ग की सैर पर ले जाता है।उस चीरे से ठीक सटे ऊपर की तरफ़ काले बालों का एक गुच्छा सा बन रहा था। औसतन करीब आधा ईंच के बाल रहे होंगे, सब के सब एक दुसरे से सटे बहुत घने रूप से बहुत हीं कम क्षेत्र में, फ़ैलाव तो जैसे था हीं नहीं। अगर नाप बताऊँ तो 1 ईंच चौड़ाई और करीब 3 ईंच लम्बाई में हीं उगी थी अभी उसकी झाँट। इसके बाद के इलाके में जो बाल था उसको मैं झाँट भी नहीं कहुँगा…बस रोएँ थे जो भविष्य में झाँट बनने वाले थे।

मैंने बोला, “एक बार जरा अपने हाथ से अपनी बूर को खोलो न जरा सा।”

वो तुरन्त अपने दोनों हाथों से अपनी बूर की फ़ुली हुई होठ को फ़ैला दी। मैं भीतर का गुलाबी भाग देख कर मस्त हो गया।

तभी वो अपना कपड़ा उठा ली, “अब चालिए न दिखा दीजिए जल्दी से रागिनी दीदी का…कहीं माँ आ गई तो बस….।”

मेरा लन्ड वैसे भी गनगनाया हुआ था, सो मैंने रागिनी को पुकारा, “रगिनी….”।

हम लोग के नाश्ते की तैयारी कर रही थी। वो चौके में से हीं पूछा, “क्या चाहिए…?”

मैंने कह दिया, “तेरी चूत….आओ जल्दी से।”

रागिनी अब मुस्कुराते हुए आई, “आपका मन अभी भरा नहीं अभी तो रीना को चोदे हैं।”

मैंने मक्खनबाजी की, “अरे रीना तो भविष्य  की  रन्डी है जबकि तू ओरिजनल  है…सो जो बात तुझमें है, वो और किसी में नहीं (मैंने जो बात तुझमें है तेरी तस्वीर में नहीं – गाने के राग में कहा)”।

रागिनी हँस पड़ी, “अरे अभी नास्ता-पानी कीजिए दस बज रहे हैं”

मैं अब असल बात बताया, “असल बात यह है रागिनी की रीता का मन है कि वो एक बार चुदाई देखे और बिन्दा के घर पर रहते तो यह संभव है नहीं सो….”।

अब रागिनी बिदकी, “हत…., वो अभी बच्ची है, उसकी उम्र हीं क्या है 13-14…. यह सब दिखा कर उसको क्यों  बिगाड़ रहे हैं आप?”

और रागिनी अब रीता पर भड़की, रीता का मुँह बन गया।

मैंने तब बात संभाली, “रागिनी, प्लीज मान जाओ…मेरा भी यही मन है। बेचारी अब ऐसी भी बच्ची थोड़े ना है, और फ़िर अब जिस माहौल  में रह रही है….यह सब तो जानना हीं होगा उसको।”

रागिनी शांत हो कर बोली, “ठीक है…पर एक उम्र होती  है इस सब की , और रीता अभी उस हिसाब से कम उम्र की है।”

Loading...

मैं फ़िर से रीता की तरफ़दारी में बोला, “पर रागिनी तुमको भी पता है रीता से कम उम्र के लड़की को भी लोग चोदते हैं, यहाँ तो बेचारी को मैं सिर्फ़ दिखा रहा हूँ, अगर अभी मैं उसको चोद लूँ तो…? एक बात तो पक्का है कि वो अब तुम्हारे उमर के होने तक कुँवारी नहीं बचेगी। बिन्दा खुद हीं उसको चुदाने भेज देगी, जब रीना की कमाई समझ में आएगी। उसके पार तो दो और बेटी है। वैसे अब बहस छोड़ो मेरी बच्ची….मेरा भी मन है कि मैं उसको सेक करके देखाऊँ। तुम मेरी यह बात नहीं मानोगी मेरी बच्ची….” मेरा स्वर जरा भावुक हो गया था।

रागिनी तुरन्त मेरे से लिपट गई। आप ऐसा क्यों कहते हैं अंकल , मुझे याद है कि आप ने  मुझे पहली बार कितना ईज्जत दी  थी और मैंने प्रौमिस किया था कि आपके लिए सब करुँगी।”

फ़िर वो रीता को बोली, “आ जाओ कमरे में चलते हैं।”

कमरे में पहुँचते हीं मैंने रागिनी को बाहों में समेट कर चुमना शुरु किया और वो भी मुझे चुम रही थी। मैंने रागिनी को याद कराया कि उन सब को गए काफ़ी समय बीत गया है सो जल्दी-जल्दी कर लेते हैं, तो वो हटी और अपने कपडे  उतारने लगी। मैंने अपने टॉवेल  खोले। मैंने रीता को भी पूरी तरह नंगी होने को कहा.

वो बोली – क्यों?

मैंने कहा – चुदाई देखते समय दुसरे को भी नंगा रहना चाहिए.

बेचारी रीता ने अपने बदन पर के एकलौते वस्त्र पेंटी को उतार दिया और नंगी खडी हो गयी.

रागिने ने रीता को दिखा कर मेरा लन्ड अपने हाथ में लिया और चुसने लगी। रीता सब देख रही थी। मैंने बताया, ऐसे जब लन्ड को चूसा जाता है तो वो कड़ा हो जाता है, जिससे की लड़की की चूत में उसको घुसाने में आसानी होती है। इसके बाद मैंने रागिनी को लिटाकर उसकी क्लीट को सहलाया और फ़िर मसलने लगा। रागिनी पर मस्ती छाने लगी। मैंने रीता को बताया कि ऐसे करने से लड़की को मजा आता है, तुम अपने से भी यह कर सकती हो, जब मन करे। फ़िर मैंने रागिनी की चूत में अपनी ऊँगली घुसा कर उअको बताया कि लड़की कैसे सही तरीके से हस्तमैथुन कर सकती है। मैंने देखा की रीता की चूत से पानी निकल रहा है. यानि इसे मज़ा आ रहा है.   इसके बाद मैंने रागिनी की चूत में अपना लन्ड पेल दिया।

रागिनी के मुँह से  एक आह निकली तो मैंने कहा, “इसी  “आह आह” को न तुम बोल रही थी कि दीदी रो क्यों रही थी…देख लो जब कोई लड़की चुदती है तो उसके मुँह से आह आह और भी कुछ कुछ आवाज निकलने लगती है, जब उनको सेक्स का मजा मिलता है। तुम्हारे मुँह से भी अपने आप निकलेगा जब तुम्हें चोदुँगा।”

यह कहने के बाद मैंने ने जोरदार धक्कम्पेल शुरु कर दिया। हस-हच फ़च-फ़च की आवाज होने लगी थी और मैं अपने लन्ड को एक पिस्टन की तरह रागिनी की चूत में अंदर-बाहर कर रहा था।

रीता पास में खड़ी हो कर सब देखी, और फ़िर मैं झड़ गया…रागिनी की चूत के भीतर हीं…. रागिनी भी अब शान्त हो गई थी।

मैं उठा और रीता से पूछा, “अब सीख समझ गई सब?”

उसके “जी” कहने पर मैंने कहा, “फ़िर चलो अब मुझे गुरु दक्षिणा दो..”।

रीता मुस्कुराते हुई पूछे, “कैसे…?”

मैंने मुस्कुरा कर कहा, “मेरे लन्ड को चाट कर साफ़ कर दो, बस…..”।

और घोर आश्चर्य…..रीता खुशी-खुशी झुकी और मेरे लन्ड को चाटने लगी। रागिनी सब देख रही थी पर चुप थी। मैंने रीता के मुँह में अपना लन्ड घुसा दिया और फ़िर उसका सर पीचे से पकड़ कर उसकी मुँह में लन्ड अंदर-बाहर करने लगा। एक तरह  से अब मैं उस लड़की की मुँह मार रहा था और रीता भी आराम से अपना मुँह मरा रही थी। तभी बाहर से दरवाजा खटखटाने की आवाज आई। सब लोग आ गए थे।

रीता तुरन्त अपनी पेंटी ले कर  किचेन में भाग गई फ़िर वहाँ से आवाज दी, “खोल रही हूँ…रूको जरा।”

मैं दो कदम में नल पर पहुँच गया एक तौलिया को लपेट कर। रागिनी कपड़े पहनने लगी। दरवाजा खुला तो सब सामान्य था। मैं नास्ते के बाद घुमने निकल गया। मैंने रागिनी और रीता को साथ ले लिया क्योंकि रूबी और रीना पहले हीं दो घन्टे के करीब चल कर थक गए थे।

उस दिन मैंने तय किया कि अब एक बार रीना को सब के सामने चोदा जाए, और फ़िर इस जुगाड़ में मैंने रागिनी और रीता को भी अपने साथ मिला लिया। रागिनी ने मुझे इसमें सहयोग का वचन दिया।

घर लौटने के बाद मैंने दोपहर के खाने के समय कहा, “बिन्दा, अभी खाने के बाद दो घन्टे आराम करके रीना को फ़िर से चोदुँगा, अभी जाने में दो दिन है तो इस में 4-5 बार रीना को चोद कर उसको फ़िट कर देना है ताकि शहर जाकर समय न बेकार हो, और वो जल्दी से जल्दी कमाई कर सके।

रागिनी भी बोली, “हाँ अंकल, उसकी गाँड़ भी  तो मारनी है आपको, क्या पता पहला कस्टमर हीं गाँडू मिल गया तो….”।

Loading...

बिन्दा चुप थी, और थोड़ा परेशान भी कि वहाँ उसकी दोनों छोटियाँ भी थीं। रीता अब बोली, “दीदी, अब तो तुम्हारे मजे रहेंगे, खुब पैसा मिलेगा तुम्हें।”

मैं बोला, “हाँ एक रात का कम से कम 5000 तो जरुर मिलेगा रीना का रेट। सप्ताह में 5 दिन भी गई तो 25000 हर सप्ताह, या क्या पता कुछ ज्यादा भी।”

अब पहली बार रूबी कुछ प्रभावित हो कर बोली, “वाह …..5 दिन काम का महिने का 1लाख….यह तो बेजोड़ काम है…हैं न माँ…”।

मैंने कहा, “हाँ पर उसके लिए मर्द को खुश करने आना चाहिए, तभी इसके बाद टिप भी मिलेगा। यही सब तो रीना को अभी सीखना है शहर जाने से पहले।”

बिन्दा चुप चाप वहाँ से ऊठ गई, मैं उसके जाते जाते उसको सुना दिया, “आज जब दोपहर में तुम्हारी दीदी चुदेगी, तब तुम भी रहना साथ में सीखना….साल-दो साल बाद तो तुम्को भी जाना हीं है, पैसा कमाने।”

दोपहर करीब 3 बजे मैंने रीना को अपने कमरे में पुकारा। रागिनी और रीता मेरे साथ थीं। दो बार आवाज देने के बाद रीना आ गई, तो मैंने रूबी को पुकारा, “रूबी आ जाओ देख लो सब, अभी शुरु नहीं हुआ है जल्दी आओ…” और कहते हुए मैंने रीना के कपड़े उतारने शुरु कर दिए। जब रूबी रूम में घुसी उस समय मैं रीना की पैन्टी उसकी जाँघों से नीचे सरार रहा था। रूबी पहली बार ऐसे यह सब देख रही थी, सो वो भौंचक रह गई। रीना ने नजर नीचे कर लीं, तब रागिनी ने रूबी को अपने पास बिठा लिया और मुझसे बोली, अंकल आज इसकी एक बार गाँड़ मार दीजिए न पहले, अगर दर्द होगा भी तो बाद में जब उसको चोदिएगा तो उस मजे में सब भूल जाएगी।”

मुझे उसका यह आईडिया पसन्द आया। उसको इस तरह के दर्द और मजे का पूरा अनुभव था। सो मैंने जब रीना को झुकाया तो वो बिदक गई, कि वो अपने पिछवाड़े में नहीं घुसवाएगी। मैं और रागिनी उसको बहुत समझाए पर वो नहीं मानी तो रागिनी बोली, “ठीक है तुम देखो कि मैं कैसे गाँड़ मरवाती हूँ अंकल से, इसके बाद तुम भी मराना। अगर शहर में रंडी बनना है तो यह सब तो रोज का काम होगा तुम्हारा।” कहते हुए वो फ़टाक से नंगी हो कर झुक  गई। मैंने उसकी गाँड़ की छेद पर थुका और फ़िर अपनी ऊँगली से उसकी गाँड़ को खोलने लगा। थुक और मेरे प्रयास ने उसकी गाँड़ को जल्दी हीं ढ़ीला कर दिया। तब एक बार भरपूर थुक को अपने लन्ड पर लगा कर मैंने अपने टन्टनाए हुए लन्ड को उसकी गाँड़ में दबा दिया। रागिनी तो एक्स्पर्ट थी, सो जल्द हीं अपने मस्ल्स को ढीला करते हुए मेरा पूरा लन्ड 8″ अपने गाँड़ के भीतर घुसवा ली। रूबी और रागिनी का मुँह यह सब देख कर आश्चर्य से खुला हुआ था। 8-10 धक्के हीं दिए थे मैंने कि रागिनी एक झटके से अपने गाँड़ को आजाद कर ली और फ़िर रीना को पकड़ कर कहा कि अब आओ और गाँड़ मरवाओ।

रीना भी सकुचाते हुए झुक  गई, और एक बार फ़िर मैं थुक के साथ उसकी गाँड़ पे ऊँगली घुमाने लगा। रागिनी भी कभी उसकी चूत सहालाती तो कभी अपने चूत से निकल रहे गिलेपने से तो कभी अपने थुक से उसकी गाँड़ को गीला करने में लग गयी थी। जब मुझे लगा कि अब रीना की गाँड़ को मेरे उँगली की आदत पर गई है तो मैं ने उसकी गाँड़ में अपना एक फ़िर दुसरा उँगली घुसा दिया। दर्द तो हुआ था पर रीना बर्दास्त कर ली। इसके बाद उसके रजामन्दी से मैं उपर उठा और अपले लन्ड को उसकी गाँड़ की गुलाबी छेद पर टिका कर दबाना शुरु किया। रागिनी लगातार उसकी चूत में ऊँगली कर रही थी ताकि मजे के चक्कर में उसको दर्द का पता न चले, और मैं उसकी कमर को अपने अनुभवी हाथों में जकड़ कर उसकी कुँवारी गाँड़ का उद्घाटन करने में लगा हुआ था। जल्द हीं मैं उसकी गाँड़ मार रहा था। अब मैंने रूबी और रीता को देखा, दोनों अपनी बड़ी-बड़ी आँखों से अपनी दीदी की गाँड़ मराई देख रही थी। करीब 7-8 मिनट के बाद मैं उसकी गाँड़ में हीं झड़ गया और जब लन्ड बाहर निकला तो उसकी गाँड़ से सफ़ेद माल बह चला उसकी चूत्त की तरफ़….तभी बिना समय गवाँए, मैंने अपना लन्ड उसकी चूत में ठाँस दिया। लन्ड अपने साथ मेरा सफ़ेद माल भी भीतर ले कर चला गया।

रूबी अब बोली, “अरे ऐसे तो दीदी को बच्चा हो जाएगा…”

मैने जोश में भरकर कहा, “होने दो…होने दो….होने दो….और हर होने दो के साथ हुम्म्म्म्म करते हुए अपना लन्ड जोर से भीतर पेल देता। बेचारी की अब चुदाई शुरु थी, जबकि वो चक्कर में थी कि गाँड़ मरवा कर आराम करेगी।

वो थक कर कराह उठी….पर लड़की को चोदते हुए अगर दया दिखाया गया तो वो कभी ऐसे न चुदेगी, यह बात मुझे पता थी। सो मैं अब उसके बदन को मसल कर ऐसे चोद रहा था जैसे मैं उसके बदन से अपना सारा पैसा वसूल कर रहा होऊँ। रीना कराह रही थी….और मैं उसकी कराह की आवाज के साथ ताल मिला कर उसकी चूत पेल रहा था। मेरा लन्ड दूसरी बार झड़ गया, उसकी चूत के भीतर हीं। इसके बाद मैं भी थक कर निढ़ाल हो एक तरह लेट गया। रागिनी झुक कर मेरे लन्ड को चूस चाट कर साफ़ करने लगी।

मैने उस रात रीना को अपने पास ही सुलाया और रात मे एक बार फ़िर चोदा, पर इस बार प्यार से, और इस बार उसको मजा भी खुब आया। वो इस बार पहली बार मुझे लगा कि सहयोग की और ठीक से बेझिझक चुदी। सुबह जब हुम जगे तो सब पहले से जाग गए थे। रीना कमरे से बाहर जाने लगी तो मैंने उसको पास खींच लिया और चुमने लगा।

वो बोली, “ओह अब सुबह में ऐसे नहीं कैसा गंदा महक रहा है बदन…पसीना से।”

मैंने कहा, “अब मर्द के बदन की गन्ध की आदत डालो, बाजार में सब नहा धो कर नहीं आएँगे चोदने तुम्हें…और तुम भी तो महक रही हो, पर मुझे तो बुरा नहीं लग रहा….मैं तो अभी तुम्हारी चूत भी चाटूँगा और गाँड भी।”

फ़िर उसके देखते देखते मैं उसकी चूत चुसने चाटने लगा और वो भी गर्म होने लगी। जल्द हीं उसकी आह आह कमरे में गुंजने लगी, और शायद आवाज बाहर भी गयी, क्योंकि तभी बिन्दा बोली, “उठ गई तो बेटी तो जल्दी से नहा धो लो और तैयार हो जाओ आज बाजार जा कर सब जरुरत का सामान ले आओ, कल तुमको रागिनी के साथ शहर जाना है, याद है ना।” 

आगे की कहानी अगले भाग में . . .

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!


bhai se chuaya god mesex story hindesagi bhabi ko nhati dekhaचुत ढके जितनी ही पेँटी पहनीमेक्सी पहन कर जेठ के कमरे गयी फिर चुदाईsharminda hui chut marwakeMaa ki galti se mila chudai ka maukasexy stotyindian sexy story in hindiहिंदी सेक्स स्टोरी दीदी माँ घर में गुलामीविमारी मे चुदी बेटे सेtalve chatana chomna sex storysexeystorey randhiचचेरी दीदी कि सलबार सूट मैं गांड मारने कि कहानियाँhindi sexy kahaniya newसविता भाभी सोई ही चूत रात की कहानीचार बहनों और उसकी मां को पेलने की कहानीnashe ke halat me chodai kiyanew kamuktaभाभी sushamaभाभी codai khani ममी और दादाजी की चुदाईहिंदी सेकस कहानियाhinde sex khaniasex hind storeदिदी ने सुमन को चोदाया मेरे साथ एसा और कूछnew hastmathun sto hindi readचाची की चुदाइ ठंडी मेall hindi sexy kahaniमाँ कि चूदाई शराब के नशे मेsex storiy dadi ko choda hindiभैया लंड गांड मे भी डालोनाsexystoerykamukta com newhinndi sexy storyनींद में दुसरे के साथ चुदीhindi sex storeisMausi ki gaand mari sali रंडी कुतिया Behen ke chut ka Didar ho gayaJism ki pyas chudai ki hindi kahanihindi sexy khanidoor ke rishte mein bhabhi ko choda kahanihindi sex story in voiceshadishuda.bahan.sex.kahani.hindiपायल को किस ने चोदाशराब पिलाबकर कि सकसि कहाBua को नंगा करके बिस्तर पर sex hindhi mesexy mumschod ki kahanima or bhan ko dono ko ek sat coda saxy kahanxabewi ne meri maa ko mujse chudwayaMAa hindi sexstoti chud ge maमेरी मम्मी चुदक्कर बन गया।हिंदी चुदाई बीहोस होगई सेकस सटोरीजोर लगा के पेल देhinndi sexy storymastram hindi sex storieshindisxestoreहमार कालोनी की भाभी की सकसी कहानीhindi sex stofree hindi sex kahanidoodh dabane aur chusne ka video for freehindi.comsex karte hue gair ki baat sexstorieमेरी रंडी माँ 2पापा की रांड बनीHindi lipstick Laga ka land chatna open sexआपना बेहेन कै चैदामा की चडडी दैखीHindesaxstorynewchhotua ke mousi xxxआहहह मजा आ रहा और तेज चोदो भाईallhindisexystorybahan ko malise karte karte chupke se choda antarvasna sex story.com चुदते हुए पकङे जाने पर चुदी की सेक्सी कहानियाँबुआ को चोदा नहाते समयpapa roj codate hai mujhe sex storyरप टाईप चूदवानाsexy khani hindi new majedarभाभी और ननद की एक साथ मस्त चुदाईfufa ko nind ki goli dekar bua ko choda hindi chudai kahaniचोदता रहाऑन्टी बोली आज तुझे झड़ने नही दूंगीchut ki divangiBhabhi nai blouse nahi pahanaमम्मी को चोदा चीखती चिल्लातीदीदी मेने बालकानी मे चोदाChudakkad parivar chudai kahanisex sex story hindiItna bada land meri chut me kaise jayega bhatiji seal tod hindi sex storychudai ki bhukhi aorat sexyहर तरफ से मेरी बुरी तरह से चुदाई सेक्स स्टोरी