मेरी बहन राधिका ने मुहं काला किया

0
Loading...

प्रेषक : गुमनाम …

हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी को अपनी दीदी की एक सच्ची चुदाई की घटना सुनाने जा रहा हूँ, जिसमें उनको मेरे पड़ोस में रहने वाले एक लड़के ने बहुत जमकर चोदा और उनकी चूत को फाड़ दिया और पहली चुदाई में ही चूत का भोसड़ा बना दिया। वैसे मेरी दीदी को भी चुदाई और सेक्स करने की बहुत इच्छा थी, उनकी चूत में बहुत ज्यादा गरमी थी, जो पहली चुदाई में बाहर निकल गई। दोस्तों आज में वही सब सच्ची बातें वो घटना सुनाने जा रहा हूँ, जिसके लिए में आज आप सभी के सामने कामुकता डॉट कॉम पर अपनी कहानी लेकर आया हूँ और अब में अपनी दीदी का परिचय करवाते हुए कहानी को शुरू करता हूँ।

दोस्तों मेरी दीदी का नाम राधिका है और वो दिखने में सुंदर, उनका रंग गोरा, बड़े आकार के अपनी तरफ आकर्षित करने वाले बूब्स, पतली कमर, बाहर निकली हुई गांड, वो बहुत हॉट सेक्सी नजर आती, लेकिन ना जाने कहाँ से मेरी दीदी राधिका को बहुत समय से गंदी गंदी किताब पढ़ने की बहुत बुरी आदत हो गयी थी, वो अपनी पढ़ाई की किताब में उन गंदी चुदाई की कहानियों की किताबो को छुपाकर पढ़ाई करने के बहाने चुदाई की कहानी पढ़कर और उन नंगे लंड, चूत, गांड, बूब्स के चित्रों को देखकर वो जोश में आकर गरम होकर अपनी चूत में उंगली डालकर हमेशा अपनी चुदाई के मज़े लेती थी, वो लगातार अपनी चूत में अपनी दो उँगलियाँ डालकर वो अपने हाथ के साथ साथ पैरों को भी हिला हिलाकर बहुत जोश में आकर सेक्स के आनंद लेती थी और कुछ देर बाद जब चूत का पानी बाहर निकल जाता तो वो बिल्कुल शांत हो जाती और थोड़ी देर बाद उठकर सीधी बाथरूम में जाकर अपनी चूत को धोकर वापस आ जाती। फिर कुछ दिनों के बाद मेरी दीदी राधिका हमारे पड़ोस में रहने आए एक सरदारजी के साथ बहुत ही कम समय में ज्यादा घुल-मिल गयी थी और वो सरदारजी भी उससे बहुत ज्यादा बातें हंसी मजाक करने लगे थे, उनके बीच की दूरियां बहुत जल्दी कम होने लगी थी, शायद वो भी मेरी दीदी को मन ही मन चाहने लगे थे, वो हर कभी हमारे घर पर आने जाने लगे थे।

दोस्तों वैसे वो सरदारजी शादीशुदा थे और वो अपनी एक बीवी और दो बच्चों के साथ हमारे पास वाले मकान में रहते थे। मेरी दीदी राधिका उनको हमेशा जीजाजी कहा करती थी, वो उनके बहुत ज्यादा करीब पहुंच चुकी थी। दोस्तों वो गर्मी के दिन थे, जब मेरी दीदी राधिका और मेरी माँ हमारे घर के आँगन में रात को अपनी अपनी चारपाई पर पास में सोए हुए थे। रात को करीब एक या दो बजे वो सरदारजी रात को मेरी दीदी की चारपाई के पास आकर बैठ गए और मेरी माँ को सोता हुए देखकर सरदारजी ने मेरी दीदी को धीरे धीरे सहलाना शुरू किया, लेकिन मेरी दीदी राधिका चुपचाप पड़ी रही, वो अब तक अपनी नींद से जाग चुकी थी, विरोध ना करने की वजह से उसकी हिम्मत और ज्यादा बढ़ गई। अब थोड़ी देर के बाद सरदारजी ने मेरी दीदी की फ्रोक को उँचा कर दिया, वो उसके स्तन (बूब्स) को अपने दोनों हाथों में पकड़कर मसलने लगा और दबाने लगा, लेकिन अब भी मेरी दीदी राधिका उसकी इस हरकत से उतेज़ित होकर उसका पूरा पूरा मज़ा लेने लगी। यह सब थोड़ी देर चलता रहा और उसके बाद में सरदारजी मेरी बहन को खींचकर बाथरूम की तरफ ले जाकर उनकी चुदाई करने ही वाला था कि तभी मेरी माँ की नींद खुल गयी और उनको उठा हुआ देखकर सरदारजी डरकर तुंरत वहां से भाग गया। अब मेरी माँ के पूछने और सवाल जवाब करने पर मेरी चुदक्कड़ दीदी राधिका एकदम शरिफजादी बनकर अपनी सफाई देने लगी कि मुझे इस बात की बिल्कुल भी खबर नहीं थी कि कब वो सरदारजी मेरी चारपाई पर आ गया और वो उसको कब से दबोचकर उसके स्तन को मसल कर सहला रहा था, वो तो बहुत गहरी नींद में थी। दोस्तों में बता देना चाहता हूँ कि मेरी दीदी राधिका का हमारे पड़ोस में रहने वाले एक दूसरे लड़के के साथ बहुत पहले से नाजायज़ सेक्स सम्बंध थे और वो कई बार अपनी चुदाई भी करवा चुकी थी, जिसकी वजह से उसको अब लंड लेने की आदत होने लगी थी। एक रात को जब मेरी माँ ने उठकर देखा कि मेरी दीदी राधिका घर में अपने पलंग पर सोई हुई नहीं है, इसलिए उसने तुरंत घबराकर मुझे जगा दिया और में हड़बड़ाकर उठा। मैंने जल्दी से आसपास में जाकर देखा और उसको ढूँढने लगा। तब मैंने देखा कि रात के दो बजे मेरी दीदी मेरे पड़ोस में रहने वाले एक लड़के के पास जाकर उससे अपनी चुदाई करवा रही थी। उस लड़के का नाम कल्लू था और कल्लू ने मेरी दीदी को पूरा नंगा करके उसकी कुँवारी चूत में अपना मोटा लंबा 6 इंच का लंड डाल दिया और वो जानवरों की तरह लगातार धक्के देकर उनको चोदने लगा।

फिर मैंने देखा कि उसकी ऐसी चुदाई की वजह से मेरी दीदी राधिका की चूत की झिल्ली फट गयी थी और उसकी छोटी आकार की मासूम चूत भी फट गयी, जिसकी वजह से दीदी की चूत से अब बहुत खून निकल रहा था और वो दर्द से करहा रही थी और कुछ देर धक्के देने के बाद उसने अपना वीर्य मेरी दीदी की चूत में डाल दिया था। फिर कुछ देर बाद जब मैंने देखा तो मेरी दीदी राधिका ठीक तरह से चल भी नहीं पा रही थी और वो लंगड़ी लंगड़ी चल रही थी, उसकी चूत आज फट चुकी थी और मेरी दीदी ने अंदर पेंटी भी नहीं पहनी थी, वो सिर्फ़ फ्रॉक पहनी हुई थी।

फिर मैंने ध्यान से देखा कि मेरी दीदी की चूत उस ताबड़तोड़ चुदाई की वजह से सूजकर एकदम लाल टमाटर की तरह हो गयी थी और आज उसकी चूत भी फट गयी थी, दीदी की चूत से कल्लू का वीर्य और उसकी पहली चुदाई का खून बाहर निकलकर मेरी दीदी की चूत से धीरे धीरे नीचे सरकते हुए उसकी जाँघ पर से रीस रीसकर बह रहा था और उसके पैरों पर भी खून के दाग साफ साफ दिखाई दे रहे थे। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

Loading...

दोस्तों मेरी दीदी की चूत पर झांट के बाल भी नहीं थे, क्योंकि दीदी ने अपनी चूत के बाल चुदाई से पहले ही ब्लेड से काट लिए थे, इसलिए दीदी की चूत बिल्कुल साफ चिकनी दिख रही थी और दीदी की चूत एकदम लाल लाल टमाटर की तरह दिखाई दे रही थी और चूत के अंदर का भाग एकदम लालश लिए हुए गुलाबी कलर का था। दोस्तों उसको दर्द बहुत था, लेकिन अपनी चुदाई करवाने की संतुष्टि भी उसके चेहरे से साफ साफ झलक रही थी, वो मन ही मन बहुत खुश थी, उसको किसी से कोई मतलब नहीं था बस उसको अपने मज़े करने थे। अब मेरी माँ ने उसको जबरदस्ती हमारे घर पर ले जाकर पलंग पर लेटाकर उसकी फ्रॉक को उतारकर दीदी को पूरा नंगी करके उन्होंने बहुत ध्यान से मेरी दीदी की चूत देखी, दीदी की चूत पूरी फेली, फटी हुई थी और उस चुदाई की वजह से लाल भी हो गयी थी। अब दीदी की चूत से उस लड़के का वीर्य और उनकी पहली चुदाई का खून बाहर निकलकर उसकी गोरी गोरी जांघो और फ्रॉक पर टपका हुआ था और उसकी फ्रॉक पर भी बहुत जगह पर खून के लाल दाग की वजह से वो पूरी खराब हो गई थी। दीदी अब उस दर्द की वजह से रो रही थी और ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ मार रही थी और मेरी दीदी का उस जबर्दस्त चुदाई की वजह से बहुत बुरा हाल हो गया था, वो एकदम निढाल होकर चीख और चिल्ला रही थी। फिर मेरी माँ ने अब दीदी की फटी हुई चूत को देखकर अब रोना और अपना सर पीटना शुरू किया और वो अब उससे कहने लगी कि छिनाल उसके साथ चुदाई के मज़े लेकर आ गयी और अब यहाँ पड़ी मुझे नाटक दिखा रही है, जब उसका लंड लिया था तब तो तुझे बहुत मज़े आ रहे थे, अब क्यों चिल्ला रही है? देख उसने तो तेरी चूत की बहुत जमकर चुदाई की है, चल अब उठकर देख कुतिया तेरी चूत तो अब फट गई है और खून के साथ उसका वीर्य भी तेरी चूत से बाहर निकलकर तेरी जाँघो पर बह रहा है, बहुत शौक है ना तुझे चूत चुदवाने का देख रंडी देख तूने आज उससे तेरा मुँह काला करवा लिया, चल अब बात की उसने तुझे चोदने से पहले उसके लंड पर निरोध लगाया था कि नहीं? या उसने बीना कंडोम लगाए ही तेरी चूत में उसका लंड डाल दिया। अब मुझे बता जल्दी से उसने क्या किया? तो मेरी दीदी ने रोते हुए कहा कि उसने निरोध लगाए बिना ही मुझे घोड़ी बनाकर अपना लंड ज़ोर से एक धक्का देकर पूरा अंदर डाल दिया और जब मैंने उसका विरोध किया तो उसने मुझसे कहा था कि कंडोम लगाकर चोदने से चुदाई का मज़ा नहीं आता है, इसलिए उसने मुझे निरोध लगाए बिना ही चोद डाला। मुझे बहुत दर्द हुआ और मैंने उसको मना किया, लेकिन उसने मेरी एक भी बात नहीं मानी और वो मुझे चोदता रहा और में चीखती चिल्लाती रही। फिर मेरी माँ ने कहा कि रंडी जब तुझे उसने अपना मोटा लंड डालकर चोदा था तब क्यों तू इतना नहीं चिल्लाई? और अब मेरे सामने पड़ी पड़ी रो रही है, नाटक करती है छिनाल, साली उसने तो दिल खोलकर तेरी कुंवारी चूत की चुदाई करके मज़े लिया है, रांड तू तेरी पेंटी कहाँ पर छोड़कर आई है?

Loading...

अब मेरी दीदी कुछ भी नहीं बोली बस रोती रही और दर्द से करहाती रही, मेरी माँ ने उसको जबरदस्ती उठाकर बाथरूम में ले जाकर नहलाया और फिर वहीं पर माँ ने दीदी की चूत में अपनी उंगली को डाल डालकर पानी को अंदर घुसाकर रगड़ रगड़कर दीदी की चूत पानी से धोकर साफ किया, क्योंकि माँ को डर था कि कहीं उस लड़के का वीर्य राधिका के गर्भाषय के अंदर चला गया हो तो शायद उसकी बेटी गर्भवती हो सकती है और उसके नज़ायज़ बच्चे की माँ बनकर मेरी दीदी हमारी भी इज्जत को खराब कर देती। अब मेरी दीदी मेरी माँ के उसकी फटी चूत में पानी के साथ अपनी ऊँगली को डालने की वजह से बहुत ही ज़ोर से चिल्ला थी और छटपटा रही थी, वो दर्द से कराह रही थी और सिसकियाँ मार मार कर रो रही थी। फिर बहुत देर चली और उस धुलाई के बाद मेरी माँ उसको कमरे में ले आई, उसको एक चादर से ढाक दिया और एक पलंग पर लाकर बहुत बेरहमी से पटक दिया।

फिर मैंने देखा कि मेरी दीदी अपनी पहली चुदाई की वजह से दूसरे दिन भी उस बिस्तर पर से उठ नहीं पा रही थी और चलना फिरना तो बहुत दूर की बात थी, वो उससे हिला भी नहीं जा रहा था और मेरी दीदी को पलंग पर सम्पूर्ण नंगी देखकर और उसकी गोरी गोरी लाल टमाटर की तरह सूजी हुई चूत को देखकर मुझे भी चुदाई की इच्छा हुई और अब मेरी भी कामवासना भड़कने लगी थी और में मन ही मन सोचने लगा था कि में अपनी रंडी दीदी को अभी इस समय चोद दूँ, लेकिन मुझमें उतनी हिम्मत नहीं थी कि में उसकी चुदाई कर सकता। फिर उसी दिन मेरी माँ ने उसको एक लेडी डॉक्टर के पास ले जाकर गर्भ निरोधक गोलियां खिलाई, वरना वो अपने कुंवारेपन में ही गर्भवती हो जाती और उस लड़के के नज़ायज़ बच्चे की माँ बन जाती। फिर उसके बाद जब भी मेरी दीदी को कोई अच्छा मौका मिलता तो वो चुपचाप घर से बाहर निकलकर उस लड़के के पास जाकर उससे अपनी बहुत मस्त जमकर चुदाई करवाकर आती और जब भी वो अपनी चुदाई करवाकर आती, तब ठीक तरह से चल नहीं पाती थी, वो अपनी गांड और कुल्हे मटका मटकाकर चलती थी, क्योंकि वो लड़का अपना 6 इंच का कड़क लोहे जैसे लंड से मेरी दीदी की चूत की बहुत बुरी तरह से चुदाई करता था और मुझे यह सब इसलिए मालूम है, क्योंकि वो लड़का मेरे पड़ोस में रहता था और वो उम्र में मुझसे बड़ा था, लेकिन हम सबसे उसकी बहुत अच्छी दोस्ती थी। वह अपना लंड हर कभी बाहर निकालकर हम सबको दिखता था, उसका लंड मोटा, लंबा, काला रंग का था और लंड के आसपास ऊपर नीचे उसके बहुत सारे झाट के बाल थे, वो हमेशा मुझसे कहता था कि तेरी दीदी की तो में बहुत मस्त जमकर चुदाई करता हूँ, ज़रा तू अभी घर पर जाकर अपनी दीदी की चूत तो देखकर आ, तुझे भी मेरी बात का विश्वास हो जाएगा। फिर में उसकी गंदी नंगी बातें सुनकर एकदम गुस्से से तिलमिला उठता था, लेकिन में कुछ नहीं कर सकता था, क्योंकि मेरी दीदी ही खुद अपनी मर्जी से उसके पास जाकर अपनी चुदाई उससे करवाती है तो में क्या कह सकता था? एक दिन सुबह में अंदर के रूम में अचानक से चला गया। दोस्तों हमारे अंदर के रूम में ही नहाने धोने के लिए एक छोटा सा बाथरूम बना हुआ है और फिर अंदर जाते ही मैंने देखा कि मेरी सेक्सी दीदी मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी हुई है। उस समय उसके गोरे गदराए बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था, लेकिन उसकी गोरी चूत पर बहुत सारे हल्के काले रंग के झांट के बाल थे। अब उसके बूब्स भी पहले से आकार में ज्यादा बड़े बड़ी गोलाई लिए हुए सुडोल और बहुत सुंदर दिख रहे थे। अब दीदी के बूब्स पहले से ज़्यादा बड़े बड़े और पपीते के आकार के बड़े थे और मस्त थे। में अपनी दीदी को संपूर्ण नंगी देखकर एकदम भोचक्का रह गया और बिल्कुल बोखला गया और मेरी दीदी राधिका भी मुझे अचानक से अपने सामने देखकर शरमा गयी और उन्होंने शरम से लाल होकर अपना मुँह नीचे करके अपनी आँखे नीचे की तरफ झुका ली, वो चुपचाप खड़ी रही और में उनको ऊपर से लेकर नीचे तक घूर घूरकर देखता रहा।

अब मेरे दिलो दिमाग़ में उस हॉट सेक्सी को अपने सामने पूरी नंगी देखकर कामवासना का भूत सवार हो गया था, जिसकी वजह से में अब अपनी दीदी से ही संभोग करने के लिए मानो उतावला होकर पागल सा गया और फिर में अपनी ही दीदी की चुदाई करने के लिए तड़पने लगा, लेकिन मजबूर था, क्योंकि तभी अचानक से बाहर रसोई घर से मेरी माँ के चिल्लाने की आवाज आने लगी, जिसकी वजह से में अपने जोश में आ गया, वो बोली कि तेरी दीदी अंदर वाले कमरे में स्नान कर रही है और उस आवाज को सुनकर अपनी नींद से उठकर मुझे मजबूर होकर वापस बाहर लोटना पड़ा। दोस्तों जिसका मुझे आज भी बहुत खेद और दुख है कि मैंने अपनी जिंदगी की पहली चुदाई का उस दिन वो मौका मेरे हाथ से निकल गया, लेकिन उस दिन के बाद से मेरी दीदी का मेरे लिए व्यहवार एकदम बदल चुका था, ना जाने क्यों मुझे वो अपनी तरफ आकर्षित करने के नये नये मौके ढूंढने लगी थी? और में उनकी सुंदरता को देखकर दिन पे दिन पागल होने लगा था ।।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!


ससुर बहु ननद कुत्ता चुदाईदीदी के नरम नरम बोबो फरवॉचमैन की बीवी को चोदाchut ki chatni bana dali Hindi kahaniSubha khet me maa or mai sex stories kamukta com hindi maiAunty ko khel khel me lund dikhayaदोस्त की सहेली को चोदा बहुत समझाने के बाद dadi aur nani ki tel lagakar malish aur ki chudaibadi chachi ki sadi kholke chodaSeth noukarani ki sex storiMousi ki chut ki kahani moot piyaमम्मी अंकल से सेक्सी सेक्सी बातें करके चुदवा रही थी स्टोरीchalak biwi ne kam banwayaदीदी की चूतट को टच कर रहा था दीदी चिल्ला मेरा लंडXx suhag rat phcकजिन बहन के हाथो मै न सामाने वाले बडे बूब हिंदी चुदाई काहानीसेकसी हिनदी रीमा की चूत राजू का लड कहानियाbaji ne apna doodh pilayamujhe landa ki malis karna sikaya kahaniदीदी की चुदाई बिना कुछ बोले।ऑन्टी ने मेरा आंड निचोड़ लियाdost ki bahan ki gaand se khoonjeth ji ko apna doodh pilayaदीदी चुदवाने के मूड मेंBibi ne kaam banwayaMausi ki gaand mari sali रंडी कुतिया gandi kahania in hindiमम्मी चाचा चुदते देखाhindi sexy istoriऑन्टी बोली अभी मत झड़नाबहन के लिये ब्रा खरीदा फिर चोदा चुदाई कहानीchachi sekshi khaniyahindisexestorihindesexestoreचुद गई जाल सेgand marne k liye land me kya lagaye jisase land andar ghush jaye/straightpornstuds/wp-content/themes/smart-mag/css/fontawesome/css/font-awesome.min.csskachi kali ko lund par batne ki khaniyahindi sexy kahaniyan.comChotu bahen ne mera lund chusa neend mei sex storyभाभी बनी चुदाई गुरुचोदो मेरी गाङ मारोGround m dhoodh pilaya storiesभाबि धमाधमteacher ne sikhai bchee ko chudai xxx vidioSasur ne papa se chudbane का plan banaya hinde sexy story sanju ki gand fadibhen ko kmar malish krne ko khaचुत स्टोरी seal ushki marjiमैने अपनी मौसी को चोदा ठंड मे की कहानीseal ka udghatan hindi sex kahaniyasxy video 2minit ki dakhni hasexy stories bhenchod, bhaiyya ka bada lundआठ इँच का लड़ निशा की चुद मेँ उतर गयाSBEETABA HE SEXCOMमैंने झुककर उसे अपनी गांड दिखा दीSexikahanihimdishadishuda didi ka dhoodh piya chodaDere dere dalo na please Hindi kamuktahini sexy storysex video chachi k ghar sone gya or ninid me unko he choddihaझाडू.मारनेवाली.कीचुदाईbachche ki chahat mein maine apne sasur se chudai ki kahani hindi mainhindesaxystorekamukta.comm38 28 38 shadi k bad Didi ki chudaiकोमल को अपने साथ लेकर चोदामूतते टाईम माँ को लड दिखायाHot.techar.ko.jabrdsti.bahut.chodakalpnaa ki chut faad chudai hindi storyWwwsexysroryमम्मी को मैने चोदाकिस्मत ने क्या करवा दिया विधवा बहननयी सेकस कहानीमम्मी ने अपने हाथों से लंड पर कंडोम लगायाburchodi mummy ki badi gand sexstoryapni maa ko chut chodta hai beta sex hindi vasa video bedroommaa ne land pe tell lgayaSexikahanihimdiHIndi sexstori maa ko chod garvti hueअप्पी को नहाते हुए देखा और मुठtalve chatana choomna sex storyमै चुद गई मुझे पता नही चलाSuhagan ke chut fadi khan4andere mein bahan aur maaमैं सो रही थी सब लोगों ने मुझे चोदाsex story in hindi downloadभाभी की नाभी चुमीचूत का पानी बहुत टेस्टी हैहिंदी सेक्स हिंदी सेक्स कहानियांrambati ko choda sexy kahni